क्या आप जानते थे?The International Mother Language Day is celebrated on 21 Feb. to foster Multilingualism
क्या आप जानते थे?The idea to celebrate International Mother Language Day was approved by UNESCO in the year 1999.
क्या आप जानते थे?Theme for 2022 International Mother Language Day: Using Technology for multilingual Learning: Challenges & Opportunities

65969369

आगंतुकों

516885

प्रतियोगिताओं में भागीदारी

156306

प्रकाशित कार्यक्रम

आज़ादी का अमृत महोत्सव

आज़ादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत के 75 वर्ष पूरे होने और यहां के लोगों, संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को याद करने और जश्न मनाने के लिए भारत सरकार की ओर से की जाने वाली एक पहल है।

यह महोत्सव भारत की जनता को समर्पित है, जिन्होंने न केवल भारत को उसकी विकास यात्रा में आगे लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, बल्कि उनके भीतर प्रधानमंत्री मोदी के भारत 2.0 को सक्रिय करने के दृष्टिकोण को संभव बनाने की शक्ति और क्षमता भी है, जो आत्मनिर्भर भारत की भावना से प्रेरित है।

आज़ादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक पहचान को प्रगति की ओर ले जाने वाली सभी चीजों का एक मूर्त रूप है। आज़ादी का अमृत महोत्सव की आधिकारिक यात्रा की शुरुआत 12 मार्च 2021 को हो गई जिसकी 75 सप्ताह की उल्टी गिनती हमारी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के लिए शुरू हो गई है तथा यह एक वर्ष के बाद 15 अगस्त 2023 को समाप्त होगी।

जैसा कि हम 15 अगस्त 2023 की ओर बढ़ रहे हैं, आज़ादी का अमृत महोत्सव का उद्देश्य सहयोगात्मक अभियानों के माध्यम से इस जन आंदोलन को और प्रोत्साहित कर के इसे भारत एवं विश्व के विभिन्न भागों तक पहुंचाना है। माननीय प्रधान मंत्री द्वारा घोषित 'पंच प्राण' के साथ पंक्तिबद्ध किए गए नौ महत्वपूर्ण विषयों के आधार पर निम्नलिखित अभियान हैं: महिलाएं एवं बच्चे, आदिवासी सशक्तिकरण, जल, सांस्कृतिक गौरव, पर्यावरण के लिए जीवन शैली (जीवन), स्वास्थ्य और कल्याण, समावेशी विकास, आत्मानिर्भर भारत और एकता।

नरेन्द्र मोदी, भारत के प्रधान मंत्री

आज़ादी का अमृत महोत्सव यानी- आज़ादी की ऊर्जा का अमृत, आज़ादी का अमृत महोत्सव यानी – स्वाधीनता सेनानियों से प्रेरणाओं का अमृत। आज़ादी का अमृत महोत्सव यानी – नए विचारों का अमृत। नए संकल्पों का अमृत। आज़ादी का अमृत महोत्सव यानी – आत्मनिर्भरता का अमृत। और इसीलिए, ये महोत्सव राष्ट्र के जागरण का महोत्सव है। ये महोत्सव, सुराज्य के सपने को पूरा करने का महोत्सव है। ये महोत्सव, वैश्विक शांति का, विकास का महोत्सव है।

नरेन्द्र मोदीभारत के प्रधान मंत्री

नरेन्द्र मोदी, भारत के प्रधान मंत्री

आज़ादी के आंदोलन के इतिहास की तरह ही आज़ादी के बाद के 75 वर्षों की यात्रा, सामान्य भारतीयों के परिश्रम, इनोवेशन, उद्यम-शीलता का प्रतिबिंब है। हम भारतीय चाहे देश में रहे हों, या फिर विदेश में, हमने अपनी मेहनत से खुद को साबित किया है। हमें गर्व है हमारे संविधान पर। हमें गर्व है हमारी लोकतांत्रिक परंपराओं पर। लोकतंत्र की जननी भारत, आज भी लोकतंत्र को मजबूती देते हुए आगे बढ़ रहा है। ज्ञान-विज्ञान से समृद्ध भारत, आज मंगल से लेकर चंद्रमा तक अपनी छाप छोड़ रहा है।

नरेन्द्र मोदीभारत के प्रधान मंत्री

चल रहे प्रतिष्ठित कार्यक्रम

Shruti Amrut

Shruti Amrut

Start Date February 4, 2023

End Date February 5, 2023

Organiser -Ministry of Culture

Ideas@75

Vitasta

Vitasta

Start Date January 27, 2023

End Date January 30, 2023

Organiser -Ministry of Culture

Ideas@75

Mela Moments - Photography Contest

Mela Moments - Photography Contest

Start Date October 7, 2022

End Date March 31, 2023

Organiser -Ministry of Culture

Ideas@75

आगामी प्रतिष्ठित कार्यक्रम

आज़ादी का अमृत महोत्सव के पांच विषय

स्वतंत्रता संग्राम

यह विषय आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत हमारे स्मरणोत्सव पहल की शुरुआत करता है। यह उन गुमनाम नायकों की कहानियों को जीवंत करने में मदद करता है जिनके बलिदान ने हमारे लिए स्वतंत्रता को वास्तविक बना दिया है और 15 अगस्त, 1947 की ऐतिहासिक यात्रा में मील के पत्थर, स्वतंत्रता आंदोलनों आदि का भी पुनरीक्षण करता है।

इस विषय के अंतर्गत कार्यक्रमों में बिरसा मुंडा जयंती (जनजातीय गौरव दिवस), नेताजी, शहीद दिवस द्वारा स्वतंत्र भारत की अनंतिम सरकार की घोषणा आदि शामिल हैं।

इस विषय के अंतर्गत संस्कृति मंत्रालय की विशेष पहलों में निम्नलिखित शामिल हैं:

अधिक पढ़ें

विचार@75

यह विषय उन विचारों और आदर्शों से प्रेरित कार्यक्रमों और आयोजनों पर केंद्रित है जिन्होंने हमें आकार दिया है और अमृत काल (भारत@75 और भारत@100 के बीच 25 वर्ष) की इस अवधि के दौरान नेविगेट करते समय हमारा मार्गदर्शन करेंगे।

हम जिस दुनिया को जानते थे वह बदल रही है और एक नई दुनिया सामने आ रही है। हमारे दृढ़ विश्वास की ताकत हमारे विचारों की आयु तय करेगी। इस विषय के अंतर्गत कार्यक्रमों और योजनाओं में लोकप्रिय, सहभागी पहल शामिल हैं जो दुनिया में भारत के अद्वितीय योगदान को जीवंत करने में मदद करती हैं। इनमें काशी की धरती के हिंदी साहित्यकारों को समर्पित काशी उत्सव, प्रधान मंत्री को पोस्ट कार्ड जैसे कार्यक्रम और पहल शामिल हैं, जिसमें 75 लाख से अधिक बच्चे 2047 में भारत के अपने दृष्टिकोण और भारत के स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों के बारे में अपने प्रभाव को लिख रहे हैं।

अधिक पढ़ें

समाधान@75

यह विषय हमारी मातृभूमि की नियति को आकार देने के हमारे सामूहिक संकल्प और अवधारण पर केंद्रित है। 2047 की यात्रा के लिए हममें से प्रत्येक को उठना होगा और व्यक्तियों, समूहों, नागरिक समाज, शासन की संस्थाओं आदि के रूप में अपनी भूमिका निभानी होगी।

हमारे सामूहिक संकल्प, सुनियोजित कार्य योजनाओं और दृढ़ प्रयासों से ही विचारों को कार्यों में परिवर्तित किया जा सकता है। इस विषय के अंतर्गत कार्यक्रमों और आयोजनों में संविधान दिवस, सुशासन सप्ताह इत्यादि जैसी पहल शामिल हैं जो उद्देश्य की गहरी भावना से प्रेरित होने के दौरान 'ग्रह और लोगों' के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को जीवंत करने में मदद करती हैं।

अधिक पढ़ें

कार्य@75

यह विषय उन सभी प्रयासों पर केंद्रित है जो नीतियों को लागू करने और प्रतिबद्धताओं को साकार करने के लिए उठाए जा रहे कदमों पर प्रकाश डालते हुए भारत को कोविड के बाद की दुनिया में उभर रही नई विश्व व्यवस्था में अपना सही स्थान दिलाने में मदद करने के लिए किए जा रहे हैं।

सबका साथ। सबका विकास। सबका विश्वास, सबका प्रयास विश्वास, सबका प्रयास के आह्वान से प्रेरित है। इसमें सरकारी नीतियों, योजनाओं, कार्य योजनाओं के साथ-साथ व्यवसायों, गैर सरकारी संगठनों, नागरिक समाज की प्रतिबद्धताओं को शामिल किया गया है जो हमारे विचारों को साकार करने में मदद करते हैं और सामूहिक रूप से बेहतर कल बनाने में हमारी मदद करते हैं। इस विषय के तहत कार्यक्रमों में गति शक्ति - मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी के लिए राष्ट्रीय मास्टर प्लान जैसी पहल शामिल हैं।

अधिक पढ़ें

उपलब्धियां@75

यह विषय समय बीतने और हमारे रास्ते में सभी मील के पत्थर को चिह्नित करने पर केंद्रित है। इसका उद्देश्य 5000 साल से ज्यादा के प्राचीन इतिहास की विरासत के साथ 75 साल पुराने स्वतंत्र देश के रूप में हमारी सामूहिक उपलब्धियों के सार्वजनिक हित में विकसित होना है।

इस विषय के अंतर्गत कार्यक्रमों और आयोजनों में 1971 की जीत के लिए समर्पित स्वर्णिम विजय वर्ष, महापरिनिर्वाण दिवस के दौरान श्रेष्ठ योजना का शुभारंभ आदि जैसी पहल शामिल हैं।

अधिक पढ़ें

वीडियो गैलरी

सोशियल मीडिया फीड्स

Top