Event Detail | Events & Activities | Azadi Ka Amrit Mahotsav, Ministry of Culture, Government of India

Event Detail

Go To Event List

स्वतंत्रता सेनानी अशोक मेहता की 111वीं जयंती के अवसर पर एक विशेष ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित

Haryana

November 07, 2022

आजादी का अमृत महोत्सव श्रृंखला के तहत राजकीय महाविद्यालय बिरोहड़ के स्नातकोत्तर इतिहास विभाग एवं हरियाणा इतिहास कांग्रेस के संयुक्त तत्वावधान में महाविद्यालय प्राचार्य डॉ. रणवीर सिंह आर्य के निर्देशन में महान स्वतंत्रता सेनानी अशोक मेहता की 111वीं जयंती के अवसर पर एक विशेष ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम के संयोजक एवं इतिहास विभागाध्यक्ष डॉ. अमरदीप ने कहा कि अशोक मेहता स्वतंत्रता आन्दोलन के महान समाजवादी और क्रांतिकारी नेता थे जिन्होंने भारत में कामगार वर्ग के उत्थान के लिए संघर्ष किया। 1911 में गुजरात के भावनगर में जन्में अशोक मेहता ने अपनी शिक्षा बम्बई के विल्सन कॉलेज से पूरी की। उनके जीवन तथा विचारों पर स्वामी विवेकानन्द, महात्मा गांधी, रवीन्द्रनाथ ठाकुर, कार्ल मार्क्स इत्यादि का प्रभाव पड़ा था। महात्मा गांधी से प्रभावित होकर उन्होंने सविनय अवज्ञा आन्दोलन और भारत छोड़ों आन्दोलन में भाग लिया और कई बार जेल जाना पड़ा। इन जेल यात्राओं में उनका सम्पर्क अच्युत पटवर्धन और जयप्रकाश नारायण जैसे व्यक्तियों से हुआ। 1934 में जब 'कांग्रेस समाजवादी दल का गठन हुआ, तब 23 वर्ष के नवयुवक अशोक मेहता उसके सदस्य बने। उन्होंने पार्टी के साप्ताहिक 'कांग्रेस सोशलिस्ट' का 1939 तक सम्पादन किया। अशोक मेहता ने भारत के 'किसान आन्दोलन' और 'श्रमिक 'आन्दोलन' से भी गहरा रिश्ता रखा था और उन्हें एकजुट एवं संघर्षरत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आजादी के बाद अशोक मेहता की अध्यक्षता में 'प्रजा सोशलिस्ट पार्टी का निर्माण हुआ। वे दो बार लोकसभा के सदस्य चुने गए। अशोक मेहता कुछ समय तक 'योजना आयोग' के उपाध्यक्ष भी रहे। पंचायती राज व्यवस्था में सुधार के लिए 1977 में इनकी अध्यक्षता में अशोक मेहता समिति बनाई गई जिसने व्यापक सुधार और विकेंद्रीकरण की प्रक्रिया को और मजबूत किया था।

Top